HariJanani

By Dharmendra Rajmangal

Romance | eBook


हरिजननी एक प्रेमकहानी है। आप कह सकते है लव स्टारी। एक ही क्लास में पढने वाले किशन और मेघा एकदूसरे से आपस में प्यार करते थे और निर्मला बीच में आगयी। किशन को मेघा से अथाह प्रेम था लेकिन न जाने कब वो निर्मला से दिल लगा बैठा। इस बात का पता न तो किशन को था और न ही निर्मला को। लेकिन मुसीबत तो ये थी कि निर्मला उस जाति से थी जो अछूत कही जाती थी। जबकि किशन और मेघा एक ही जाति के थे। सब लोगों की सलाह किशन को ये ही थी कि वो निर्मला को छोडकर अपनी ही जाति की मेघा से प्रेम करे। क्योंकि मेघा उसी की जाति की है जबकि निर्मला गैर और अछूत जाति की। लेकिन प्रेम कभी जाति धर्म देखकर थोडे ही न होता है। वो तो जिससे हो गया उससे हो गया। किशन को निर्मला से प्रेम हो गया। लेकिन प्रेम की डगर इतनी आसान न थी। लेकिन फिर जो हुआ उसकी किसी को भी उम्मीद न थी।


Less...

हरिजननी एक प्रेमकहानी है। आप कह सकते है लव स्टारी। एक ही क्लास में पढने वाले किशन और मेघा एकदूसरे से आपस में प्यार करते थे और निर्मला बीच में आगयी। किशन को मेघा से अथाह प्रेम था लेकिन न जाने कब वो निर्मला से दिल लगा बैठा। इस बात का पता न तो किशन को था और न ही निर्मला को। लेकिन मुसीबत तो ये थी कि निर्मला उस जाति से थी जो अछूत कही जाती थी। जबकि किशन और मेघा एक ही जाति के थे। सब लोगों की सलाह किशन को ये ही थी कि वो निर्मला को छोडकर अपनी ही जाति की मेघा से प्रेम करे। क्योंकि मेघा उसी की जाति की है जबकि निर्मला गैर और अछूत जाति की। लेकिन प्रेम कभी जाति धर्म देखकर थोडे ही न होता है। वो तो जिससे हो गया उससे हो गया। किशन को निर्मला से प्रेम हो गया। लेकिन प्रेम की डगर इतनी आसान न थी। लेकिन फिर जो हुआ उसकी किसी को भी उम्मीद न थी।...


More...


Dharmendra Rajmangal is a Hindi writer, was born (28 june 1993) in Hathras District Uttar Pradesh. He is first writer of his village Panchayat, history of 100 Years. 'Mangal Bazaar' is his first published Novel. second novel 'swapnadosh-the night fail' is as ebook. third 'Amarbel' as ebook. Fourth 'Pavitra Veshya'. Fifth is 'Pathwari'. Sixth is Poetry Collection 'Dil Dariya' . seventh 'Mol Ki'.



Login
admin

iAuthor

Just now

Make your presence felt. Be the first to post!

     1463861044 social-instagram-new-square1 Io6eZONw-01 Add to footer
Sitemap | Terms & Conditions
Privacy & Cookies

© 2018 iAuthor Ltd
Design: Splash | Web: MWW
partner-member BAI logo smaller